गीत · Reading time: 1 minute

” पल हुए नवल ” !!

देखा रुप सुहाना ,
ठिठक गये पल !!
लगता है मुस्कानें ,
करती है छल !!

आंखमिचोली तेरी ज्यों ,
धूप गुनगुनी !
सर्द हवाओं जैसी ,
बात अनसुनी !
माथे पर पड़ते हैं ,
अनजाने बल !!

डोर प्रीत की बांधी ,
उड़ी पतंगें !
पेंच आँख के उलझे ,
रंग सतरंगे !
लगी लालसा ऐसी ,
अब लगे न टल !!

चढ़ी बहारें काँधे ,
खुशबू पसरी !
पवन जो निकली छूकर ,
खोले गठरी !
सँवर गये तुम पल को ,
पल हुए नवल !!

रंगत है बासंती ,
मन को भायी !
आंखों में जागी है ,
फिर तरुणाई !
खुशियों के झरने हैं ,
बहते कलकल !!

बृज व्यास

1 Like · 27 Views
Like
You may also like:
Loading...