" पल मुस्कराने लग गये " !!

कदम क्या संभले हमारे ,
वे पास आने लग गये |

अपना पराया पहचानने में ,
हमको जमाने लग गये |

आंसुओं ने पाला पोसा ,
रिश्ते पुराने कह गये |

दहलीज़ तक ना थे गंवारा ,
दिन पुराने लद गये |

अपना नहीं बेगाना समझा ,
रिश्ते निभाने लग गये |

आज वे हमदर्द बनकर ,
झूंठे फसाने कह गये |

दगा करते आये हमसे ,
वे आज़माने लग गये |

साफगोई दिल में ना थी ,
फिर से बहाने कर गये |

वक्त क्या बदला सितमगर ,
पल मुस्कराने लग गये |

माँ की दुआएं साथ थी ,
सपने सुहाने सज गये |

बृज व्यास

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like Comment 0
Views 230

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing