.
Skip to content

” ——————————————– पलकें लगे सजल सी ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

September 13, 2017

मन की बातें कही ना जाए , खामोशी में पलती !
यही वेदना अगर मुखर हो , अश्कों में है ढलती !!

सजना धजना कोरा लगता , आसमान खाली सा !
कांधे लदी बहारें मानो , जान बूझ हैं छलती !!

बंजारिन सा डेरा खाली , हंसी आंख से ओझल !
अधर अनमने आज लगे हैं , खुशियां लगे फिसलती !!

आहट कानों पर ना ठहरे , खोयी खोयी सिहरन !
काया हुई शिथिल है ऐसे , पल पल रंग बदलती !!

पवन संदेशे आते जाते , भूल गये लहराना !
इतराने वाले पल रूठे , पलकें लगे सजल सी !!

खुशहाली आनी जानी है , इतना तो हम जानें !
तुम वादे तोड़ो अपने तो , नीयत लगे मचलती !!

अभी लालसा कायम सी है , कल हों सपने पूरे !
आस जगी है नयी नयी सी , तबियत लगे संभलती !!

बृज व्यास

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
थोड़ा सा विश्राम दूं तन को , मन भी लगे थकेला ! काटे से कटते ना दिन है , समय बड़ा अलबेला !! सज़ धज... Read more
@सच कहने लगे है@
*@सच कहने लगे है@* अपनो को भूल कर,, धन कमाने की होड़ में लगे है,, रिश्तों को ठुकरा कर,, जाने किस किस को लूटने में... Read more
आदमी सा लगा....।
आदमी सा लगा.......।। बड़ा अजीब मंजर था जानाजे का उसके.। वहां मौजूद हर सख्श बुझा बुझा सा लगा.। न पूछ उसके मरने का सबब मुझसे.।... Read more
खाली सा हो गया तेरे जाने से मेरा दिल
खाली सा हो गया तेरे जाने से मेरा दिल मेरा दिल काम तेरा मकान ज्यादा लग रहा है हर वक़्त कई साल साथ रहा तो... Read more