कितना सुंदर जमाना था

????
कितना सुंदर जमाना था,
तब मौसम बड़ा सुहाना था।
पेड़-पौधों से भरी धरा,
साथ हरियाली का खजाना था।
शुद्ध पानी, शुद्ध हवा,
शुद्ध खाने का हर दाना था।
वन-उपवन में, घर-आँगन में,
रंग-बिरंगी पक्षियों का चहचहाना था।
अल्हड़-अलमस्त,पुष्प लता का
मंद-मंद मुस्कुराना था।
स्वास्थ्य शक्ति पूर्ण वसुंधरा,
तब सुखमय प्यारा-प्यारा था।
स्वार्थवश मानव ने
पर्यावरण संतुलन बिगाड़ा है।
जागो मानव यत्न करो,
वृक्षारोपण, जन जागरूकता
पर्यावरण संरक्षण काम हमारा है।
????—लक्ष्मी सिंह?☺

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 255

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share