पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब

पर्यावरण बचा लो, कर लो बृक्षों की निगरानी अब |
प्रकृति-प्रेम बिन गर्म हवाएं ,बन गईं रेगिस्तानी अब |

हाल यही यदि रहा,रोएगा निश्चय मानव पानी बिन |
सघन शाप हम स्वयं बन रहे, भाव विहीन कहानी बन|

बृजेश कुमार नायक
जागा हिंदुस्तान चाहिए एवं क्रौंच सुऋषि आलोक कृतियों के प्रणेता
05-06-2017

मेरे फेसबुक Brijesh Nayak पर भी उक्त पंक्तियां पढी जा सकतीं हैं |

Like Comment 0
Views 390

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing