23.7k Members 50k Posts

परीक्षाव्रत*****

दोहा-परीक्षापुरी के घाट पर भई परीक्षाव्रती के भीर।
परीक्षार्थी कलम घिसै ध्यान देत परीक्षक बलबीर।।

सुन्दर पावन पुनीत बेला ।
चहुँओर दृश्य अलबेला।।
कभी अधिगम कभी समागम।
और मध्य में बार-बार फूटता बम।।
कलरव का था लगा समाहार ।
हर तरफ केवल एक प्रश्न की गुहार।।
प्रतीत था होता हाहाकार ।
उस पर प्रचण्ड गर्मी का प्रहार।।
चल रहा था विषय पर्यावरण।
था निर्मित अद्भुत वातावरण ।।
था हो रहा हर तरफ पूछताछ का अधिगम ।
और परीक्षक फूट रहे थे बन कर बम।।
मेरी दशा को देखकर।
कहा परीक्षक ने तनिक सोचकर।।
आप भी कुछ जुगाड़ बिठाइए ।
तभी मैंने कहा मैं शाकाहारी हूँ ……
इसलिए मुहतरमा आप मुझसे परे हो जाइये।।
उसने पुन: कहा मैं समझी नहीं ।
मैंने तब उन्हें समझाया ।।
मुहतरमा आज अपन का उपवास है।
संग अपने पर पूर्ण विश्वास है।
इतने में आने को हुए मजिस्ट्रेट ।
जाकर तब कहीं खत्म हुआ …..
परीक्षाव्रतियों का इन्टरेस्ट ।।
आते ही उन्होंने जारी की एक निर्देशिका ।
सिर्फ सन्मुख रखें अपनी उत्तरपुस्तिका।।
जाने के बाद उनके एक परीक्षाव्रती ने मुझको भी छेड़ा।
और विनितभाव से मेरी ओर मुँह मोड़ा।।
कहने लगा पाठकजी कुछ बतलाइये ।
मैंने कहा फरमाइये फरमाइये।।
परन्तु आज इस रुट की सभी लाईनें व्यस्त है।
इसलिए कल ही आप फरमाइये ऐसी रिक्वेस्ट है।।😂😂😂😂😂

3 Likes · 4 Views
Bharat Bhushan Pathak
Bharat Bhushan Pathak
DUMKA
104 Posts · 1k Views
कविताएं मेरी प्रेरणा हैं साथ ही मैं इन्टरनेशनल स्कूल अाॅफ दुमका ,शाखा -_सरैयाहाट में अध्यापन...
You may also like: