परिवार

🌹🌹🌹🌹🌹🌹
इक अभिन्न-सा अंग है, जीवन में परिवार।
प्रेम – स्नेह से सींच कर, स्वर्ग बने घर-द्वार।। १

फूलों की बगिया लगे, यह अपना परिवार।
हिल मिल सब रहते जहाँ, है आपस में प्यार।।२

सपनों से प्यारा लगे,मुझको मेरा परिवार।
लगे नहीं इसको नजर, विनती बारंबार।। ३

गृह लक्ष्मी बनकर रही, मिला पिया का प्यार।
सास-ससुर के स्नेह से, महक रहा परिवार।। ४

अपनेपन का ये चमन, खुशहाली का द्वार।
अहम् छोड़ कर झुक गयी, स्वर्ग बना परिवार।। ५

नाजुक रिश्तों की डोर है, माँगे थोड़ा प्यार।
जीवन भर का धन यही, एक सुखी परिवार।। ६

,नित्य जहाँ खुशियाँ बसे, हर दिन हो त्योहार।
करूँ सदा ये कामना, संग रहे परिवार।। ७

दादा-दादी साथ में, बच्चों का संसार।
मिला मुझे भगवान से, एक सुखद परिवार।। ८

मार्ग पूर्वजों के धरो, यह जीवन का सार।
इष्ट मित्र मिलते जहाँ, सुखी वही परिवार।। ९

🌹🌹🌹🌹—लक्ष्मी सिंह 💓☺

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 27

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share