परिणाम आ रहें हैं,परिणाम आ रहें हैं

हाथों के इशारे कमल खिला रहे हैं,
परिणाम आ रहें हैं,परिणाम आ रहें हैं।

देखेंगे भैया पप्पू बाँहें हैं ऊपर करते,
चुनाव हार कर वह इटली पसन्द करते,
देखिये के बिना वह न भाषण पूरा करते,
चुनाव हार कर वह वायनाड में बसेंगे,
इसलिए वह न्याय पर इतना इतरा रहें हैं,
परिणाम आ रहें हैं,परिणाम आ रहें हैं।1।

हाथी साइकिल का नया संग जो हुआ है,
पहले था बबुआ अब वह उनकी बुआ है,
हाथी है वजनीला,साईकिल है बहुत हल्की,
टीएमसी ने न अपनी जीत अभी तय की,
न हुई एकता यदि नायडू दर्द न सह सकेंगे,
इसलिए वह हर एक द्वार-द्वार जा रहें हैं,
परिणाम आ रहें हैं,परिणाम आ रहें हैं।2।

‘आप’ने ‘साफ’का पाप जो किया है,
अन्ना हजारे जी को दर्द जो बुरा दिया हैं,
मोदी जी मेरे दुश्मन और घातक पिया हैं,
परिणाम आ रहें हैं धड़के मेरा जिया है,
हार गई आप गर तो मोदी सपने में दिखेंगे,
इसलिए अरविन्द हर एक को फोन लगा रहे हैं,
परिणाम आ रहें हैं,परिणाम आ रहें हैं।3।

***अभिषेक पाराशर***

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 9

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share