Skip to content

परिंदों के लिए तो आशियाना चाहिए

Anish Shah

Anish Shah

गीत

September 8, 2017

अब हमें अपना जनमदिन यूं मनाना चाहिए।
कल्पतरू अभियान में पौधे लगाना चाहिए।।

घुल गया कितना जहर आबो-हवा में दोस्तों।
अब जिंदा रहना है तो बस सांसों का होना चाहिए।।
हम तो परजीवी है जीने को सहारा चाहिए।
जो सहारा दे रहे न अब मिटाना चाहिए।

हमने ईंटों पत्थरों से चुन लिए अपने मकां ।
पर परिंदों के लिए तो आशियाना चाहिए।।

छीन ली हरियाली हमने हो गई बेआबरू ।
खो गई वसुधा की चूनर अब उढ़ाना चाहिए।

मेरा आंगन या तेरा घर फर्क इसमे क्या “अनीश”।
है जरूरी पेड़ बस पेड़ों को होना चाहिए ।।

कल्पतरू अभियान सांईखेड़ा को सादर समर्पित

Author
Anish Shah
अनीश शाह " अनीश" (अध्यापक) एम. एस. सी (गणित) बी. एड. निवास-सांईखेड़ा ,नरसिंहपुर (म.प्र.) मो. 7898579102 8319681285
Recommended Posts
** आसमां में सर अब उठा चाहिए **
जिंदगी को अब विराम चाहिए आदमी को अब आराम चाहिए कशमकश जिंदगी में बहुत है हल करने को हमराह चाहिए।। जीवन की कश्ती को पतवार... Read more
तुमको कोई गीत गाना चाहिए, राग दिल का गुनगुनाना चाहिए |
तुमको कोई गीत गाना चाहिए, राग दिल का गुनगुनाना चाहिए | नासमझ नादान नाजुक, इस ह्रदय की प्रीत है, गीत का हर शब्द तेरा, तुझपे... Read more
II क्या अब चाहिए II
मुझसे उसने हि पूछा क्या कुछ चाहिए l छूटे साथ तेरा ऐसा---नहीं अब चाहिएll छोटी मोटी मेरी -----कोई ख्वाहिश नहीं l अब मुझे अपने में... Read more
?? वज्र सा फिर एक प्रहार चाहिए??(पद संचलन गीत)
वज्र सा फिर एक प्रहार चाहिए, प्रहार चाहिए, हुँकार चाहिए, पुनः गांडीव की टंकार चाहिए, टंकार चाहिए, झन्कार चाहिए।।1।। अब काश्मीर में शान्ति चाहिए, शांति... Read more