.
Skip to content

परमब्रह्म हैं जो परमपुरुष जिनसे ( घनाक्षरी)

Jitendra Anand

Jitendra Anand

घनाक्षरी

April 28, 2017

परमब्रह्म हैं जो परमपुरुष जिनसे-
विष्णु भी पाते ऐश्वर्य करते निवास हैं ।
उन योगेश्वर कृष्ण को करते प्रणाम ,
रखते श्रद्धा भी हम ,करते विश्वास हैं ।।
— जितेन्द्र कमल आनंद रामपुर दिनांक २८-४-१७

Author
Jitendra Anand
हम जितेंद्र कमल आनंद को यह साहित्य पीडिया पसंद हैं , हमने इसलिए स्वरचित ११४ रचनाएँ पोस्ट कर दी हैं , यह अधिक से अधिक लोगों को पढने को मिले , आपका सहयोग चाहिए, धन्यवाद ----- जितेन्द्रकमल आनंद
Recommended Posts
परमब्रह्म सबको चाहता भरपूर हैैैै :: जितेन्द्रकमल आनंद ( ९३)
घनाक्षरी छंद ------------------- परमब्रह्म सबको चाहता भरपूर है , उनकी कृपा से होता भक्त सिंधु -- पार है । खोल दो बस खिडकियॉ अपने मकान... Read more
राजयोग महागीता:: प्रभु प्रणाम ( घनाक्षरी ) पोस्ट५
विभु राम ,नृसिंहादि रूपों में जो व्यक्त हुए , भगवान गोविंद का करता भजन हूँ , प्रभु कृष्ण रूप में जो स्वयं ही प्रकट हुए... Read more
शिखरिनी ( हाइकू):: जितेंद्रकमलआनंद: जग असार( पो ७७)
शिखरिनी छंद ------------------ जग असार किंतु परम ब्रह्म । हैं सारात्सार ।।४!! सर्व विज्ञाता परमब्रह्म ही हैं -- सर्वान्तरात्मा ।।५!! मानव धर्म नैतिकता पूर्ण है... Read more
शायरी -
ये मेरी बेबसी है या मेरी गुरूरदारी है ; चंद लम्हों की जिन्दगी में ख्वावजारी है | ख्वाहिशों के दिये जो भी जले बुझते ही... Read more