Skip to content

परदेश

DESH RAJ

DESH RAJ

कविता

February 8, 2017

एक दिन परदेश छोड़कर तुझे दूर अपने “देश ” है जाना ,
सखी, तू क्यों होती है उदास , तुझे “पिया” घर है जाना I
रिश्ते- नाते छोड़कर तुझे “पिया” की नगरी में है घर बसाना,
उस नगरी में तुझे “परदेश” का सारा अच्छा- बुरा है बताना I
“राज” अगर पहले जान जाता तो परदेश को पक्का ठिकाना न बनाता,
अगर छोड़कर दूसरे “देश” जाना ही है, तो इतना मोह कभी न बढाता I

देशराज “राज”
कानपुर

Author
DESH RAJ
Recommended Posts
जिंदगी  की  रेस
DESH RAJ कविता Jan 30, 2017
दूर तक बस केवल एक सन्नाटा नज़र आता है, सन्नाटे में आदमी को सिर्फ भागते हुए पाता हूँ I जिंदगी को रेस बनाकर हम कहाँ... Read more
दुर्घटना का दंश
बेबस जिंदगियों को जीवन की पुकार करते नहीं देखा आज से पहले , पल भर में जिंदगी को इस तरह मुहँ मोड़ते नहीं देखा आज... Read more
चिड़िया का घोंसला
“ चिड़िया ” घोंसला छोड़कर आसमान से पार उड़ गई ,हम बस देखते रह गए , सूनी हो गई पेड़ की पत्ती-डालें , हम आसमान... Read more
“  पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ कविता Feb 18, 2017
गाँव की पगडंडी से गुजरते हुए एक बालक को हमने देखा, नन्हें हाथों में बस्ता, उसकी आँखों में आशा की किरणें देखा I उसके पेट... Read more