Mar 14, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

पथिक वही जो बढ़ता जाता

पथिक वही जो बढ़ता जाता
अवरोधों से कब घबराता ,
ऊँची-नीची सब राहों पर
बिना रुके वो चलता जाता ।
पाषाणों से जब टकराता
असंभव को संभव बनाता ,
बड़े बड़े तूफाँ से लड़कर
विजय रथ पर चढ़ता जाता ।

डॉ रीता

59 Views
Copy link to share
Rita Singh
94 Posts · 15.7k Views
Follow 2 Followers
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय... View full profile
You may also like: