पत्नी का पति के नाम खत— मंहगाई

पत्नी का पति के नाम खत— मंहगाई
=========================================
बड़ी मंहगाई बालम सब्जी का खरीदी /
नेनुआ तोरी बैगन टिंडा गोभी खीरा लौकी
आलू मंहगी भिंडी मंहगी परवर पटल भी मँहगा/
ककड़ी खीरा और चुकंदर कटहल लंपट लंबा /
पत्ता गोभी मटर सेम बरसा मे पालक मेथी/
अदरक लहसुन प्याज ये धनिया संग सजी चौराई/
कुनरू चीचड़ा और करैला संग मे सूरन राजा/
बथुआ ,सोवा हरी पियाज फेंच बीन्स अरू शिमला/
शलगम अरबी कमलककड़ी शकरक्न्द ये मूली /
सहजन ग्वार फली से मंहगी भावनगर की मिर्ची/
क़ोहड़ा मोहड़ा केतना थामे पंडित खाते पूड़ी /
उड़द मूँग अरू दाल भाव सुन आए प्रियतम जूडी/
बड़ी मंहगाई बालम सब्जी का खरीदी /
सोना चाँदी सब्जी होइगा हार हार मन मानत /
जेतना तू मानी आर्डर भेजा , सब्जी पे सब लानत/
बड़का से पैसा लिहे रहे जो छोटका करें तगादा /
सुबह शाम वो आयि – आयि के डालें काम मे बाधा /

बीत जुलाई आडिमीशन का चिंता रोज सातवत बा,
चिंटू पिंटू पप्पू गप्पू , स्कूल से फ़ोन भी आवत बा/
ड्रेस कापी अरू क़लम किताब मंहगाई साजन बेहिसाब /
अच्छे दिन सब भूल गये फूल आज सब शूल भये/
बड़ी मंहगाई बालम ——–आज कल पढ़ाई
राजकिशोर मिश्र ‘राज’ प्रतापगढ़ी

22 Views
Copy link to share
लेखन शौक शब्द की मणिका पिरो छंद, यति गति अलंकारित भावों से उदभित रसना का... View full profile
You may also like: