.
Skip to content

….. पत्थर हुआ नहीं जाता !

दिनेश एल०

दिनेश एल० "जैहिंद"

गज़ल/गीतिका

November 12, 2017

…… पत्थर हुआ नहीं जाता ।
// दिनेश एल० “जैहिंद”

दिल से बाहर हुआ नहीं जाता ।
ना करो बेघर हुआ नहीं जाता ।।

जुबान से दो दुआ सदा यारो,,
गहरा खंजर हुआ नहीं जाता ।।

दोस्तों के संग शहद जरा बाँटो,,
इतना तो जहर हुआ नहीं जाता ।।

पत्थर दिल ये सुनो अभी मेरी ,,
इतना पत्थर हुआ नहीं जाता ।।

दिल तो दिल है नर्म रखो स्यानो,,
इतना बंजर हुआ नहीं जाता ।।

==============
दिनेश एल० “जैहिंद”
30. 05. 2017

Author
दिनेश एल०
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का... Read more
Recommended Posts
नहीं जाता।
कुछ रिश्ते साथ होकर भी,याद नहीं आते कुछ दूर हो फिर भी, भुलाया नहीं जाता। ये इश्क हर किसी को रास आए,सच नहीं कोई नहीं... Read more
हाँ, ये दिल !
हाँ ये दिल ! // दिनेश एल० “जैहिंद” सम्भाले मुश्किलों में जो, गुनगुनाए खुशियों में जो, दर्द मे तड़पता बड़ा ये दिल, कौन है ये... Read more
चेहरे की हकीकत को समझ जाओ तो अच्छा है
मिली दौलत ,मिली शोहरत,मिला है मान उसको क्यों मौका जानकर अपनी जो बात बदल जाता है . किसी का दर्द पाने की तमन्ना जब कभी... Read more
? वो माँ को ढूढ़ता रहा ?
? वो माँ को ढूढ़ता रहा ? ?दिनेश एल० “जैहिंद” वो पत्थरों में ही खुदा को पूजता रहा । मोहब्बतों में उसकी वो डूबता रहा... Read more