.
Skip to content

पति गये परदेश

मधुसूदन गौतम

मधुसूदन गौतम

गज़ल/गीतिका

July 12, 2017

गये पति परदेश सखी री कब तक पन्थ निहारु।
मेरे इस मन के आंगन को कब तक रोज़ बुहारू।
इस तन के तान तम्बूरे के भी नित ही तार उतारू।
भरे भाव भरपूर जिया में कब तक उन्हें सम्भारू।
कहाँ कबूतर रहे आज और चिट्ठी तार पुरानी बातें।
गया जमाना सतयुग वाला जब लम्बी होती रातें।
आज हाथ में मोबाईल है पल पल वो नजरातें।
ऐसे में तन वन्हि धधके सावन सहे न जाते।
खूब कमाई करते साजन कंचन बहुत पठाते।
तोहफे जम्फर साड़ी गाड़ी जाने कितनी सौगाते।
समय समय पर मेरे खातिर रहते वो भिजवाते।
सब कुछ मिलता मुझे यार बस वो नही आपाते।
ऐसे में फिर मै इतराती पर समझ नही कुछ अाती।
कभी कभी तो क्या बोलूं री मति मेरी मारी जाती।
सही न जाती तन की पीड़ा जब यादे बहुत सताती।
आग बुझाऊ मन समझाऊ पर कर कुछ नही पाती।
जी करता है जीवन जो है इसको पूरा जी पाऊं।
थोथे आदर्शो को छोडूँ पूरा मौज मनाऊं।
किया नही जो कभी काम भी वो भी मै कर जाऊं।
पर सोच सोच बहुतेरी बातें मन ही मन पछताऊ।

मधु गौतम

Author
मधुसूदन गौतम
मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर जाने की आदत है। वर्तमान में राजस्थान सरकार के आधीन संचालित विद्यालय में व्याख्याता पद पर कार्यरत हूँ।
Recommended Posts
कदम क्या संभले हमारे , वे पास आने लग गये | अपना पराया पहचानने में , हमको जमाने लग गये | आंसुओं ने पाला पोसा... Read more
*** लोगों के मुख विवर्ण हो गये ***
9.7.17 ** प्रातः 11.01** कल के अवर्ण क्यों सवर्ण हो गये लोगों के मुख क्यों विवर्ण हो गये स्वार्थ-सिद्धि होती थी,तब-तब वो ना जाने पराये... Read more
प्यार का रोग ये लगा कब का
प्यार का रोग ये लगा कब का दर्द बदले में भी मिला कब का जिन्दगी समझा था जिसे अपनी छोड़ वो ही हमें गया कब... Read more
**** जिंदगी ***
[[[[ ज़िंदगी ]]]] दिनेश एल० "जैहिंद" ये जिंदगी क्या है....? पल दो पल का खेला है !! ये दुनिया क्या है....? पल दो पल का... Read more