पता ना चला

दुश्मनों की जंग लड़ते लड़ते अपने भी कब दुश्मन बन गए पता न चला
सरहदों की सीमा तय करते करते कब घरों में बंटवारा हुआ पता न चला लहू बहते-बहते हमारे तुम्हारे कब मन भी मिला हुआ पता ना चला
अपनी मां बहन की सुरक्षा की शपथ ली सभी ने कब और उनके लिए नजर बदल गई पता न चला गरीबों को देखकर दुत्कारते हुए कब आत्मा गरीब हो गई पता ना चला

Like Comment 0
Views 13

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing