Dec 11, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

पतवार

आशा और निराशा की
बहती पुरबैया
कभी अविचल
कभी डगमग नैया
खड़ी बीच मँझधार
विविध विध्न,बहु बाधा
अशांत मन-सा
लहरों ने साधा
जाना,जो उस पार
मांझी,दृढ़ पकड़ पतवार
तज भय
कर निश्चय
ले निज हाथों में पतवार
मांझी,दृढ़ पकड़ पतवार
निशांत हो तो उषा है
हौसला जिजीविषा है
जलधि के अतल हृदय पर
ज्वार-भाटायें भरा है
इस भरे जलधार में
पतवार का ही आसरा है
कर्म ही एक आधार
मांझी,दृढ पकड़ पतवार।
-©नवल किशोर सिंह

1 Like · 18 Views
Copy link to share
नवल किशोर सिंह
162 Posts · 3.8k Views
Follow 1 Follower
पूर्व वायु सैनिक, शिक्षा-एम ए,एम बी ए, मूल निवासी-हाजीपुर(बिहार), सम्प्रति-सहायक अभियंता, भेल तिरुचि, तमिलनाडु, yenksingh@gmail.com... View full profile
You may also like: