.
Skip to content

पण्य धरा

राजेन्द्र कुशवाहा

राजेन्द्र कुशवाहा

शेर

March 2, 2017

शुरवीरो की पुण्य धरा को यादो से आचमन करले।

मात्र भूमि का शौर्य बङे उन रास्तो पर गमन करले।

इस वतन के ख़ातिर बहा दिया लहु अपना,

भारत माँ के उन लाङलो को शत – शत नमन करले।।
राजेन्द्र कुशवाहा

Author
राजेन्द्र कुशवाहा
DOB - 12/07/1996 पता - मो.पो. - चीचली, जिला - नरसिंहपुर, तहसील - गाडरवारा, म. प्र. मोबाइल न. 7389035257 करना वहीं राजेन्द्र जो दुनिया को दिखाई दे। स्वरो को करना बुलंद इतने की लाखों मे सुनाई दे।
Recommended Posts
*धरा*
अपने आँगन में खेल रही धरा फूल-फूल को चूम रही है धरा कलि-कलि संग झूम रही धरा पवन संग धूम मचा रही है धरा नदियों... Read more
जन्माष्टमी का पैगाम
प्रेम की एक अलग परिभाषा के लिए हर प्रेमी की जुबाँ पर आता है जिनका नाम माँ के लाड में पुकार कर दुनिया याद करे... Read more
जरा याद करो कुर्बानी
शहीद दिवस ???जरा याद करो कुर्बानी??? चले गए जो हँसते -हँसते, बाँध अपने सर पे कफ़न उन शहीदों के हर कुर्बानी को, मेरा शत्-शत् नमन..।... Read more
शत-शत नमन कारगिल के वीरों
? शत-शत नमन कारगिल के वीरों, देश के खातिर अपनी जान गवाई। शत-शत नमन उन शहीदों को जिसने देश के खातिर सीने पर गोली खाई।... Read more