.
Skip to content

पढ़ना लिखना छोड़ दिया मैंने

विवेक दुबे

विवेक दुबे

कव्वाली

July 30, 2017

–पढ़ना लिखना छोड़ा मैंने—
___________________________
हाँ पढ़ना लिखना छोड़ दिया मैंने
पढ़ें लिखों को पीछे छोड़ दिया मैंने
बहुत कुछ सीख लिया मैंने
बहुत पढ़ा था मेरा भाई,
बहना ने भी की खूब पढ़ाई ।
बाबा ने लगा दाव सारी पूंजी लुटाई
धूल खा रही डिग्रियां सारी,
न पाया कोई पद सरकारी ।
मजदूरी करे कैसे,
डिग्रियां आड़े आये रोड़े जेसे ।
बहना भी भटकी इधर उधर ,
नही मिला कोई पद पर ।
बेटी की उम्र हो रही ,
माँ बीमार पड़ी सोच सोच कर ।
सो बिन सोचे समझे ब्याह रचाया,
बहना के चौका चूल्हा हिस्से आया ।
तब ठाना मैंने मुझे कुछ कर जाना है अपना घर परिवार बचाना है ।
सीख लिए तब मैंने दाव राजनीति के ।
एक झटके में पढ़े लिखों को पीछे छोड़ा ।
बाबा भाई बहन को भर भर थैला देता हूँ।
बच्चों को भी पाठ राजनीति का ही देता हूँ ।
…. विवेक दुबे ©…
रायसेन म.प्

Author
विवेक दुबे
मैं विवेक दुबे निवासी-रायसेन (म.प्र.) पेशा - दवा व्यवसाय निर्दलीय प्रकाशन द्वारा बर्ष 2012 में "युवा सृजन धर्मिता अलंकरण" से सम्मान का गौरब पाया कवि पिता श्री बद्री प्रसाद दुबे "नेहदूत" से प्रेरणा पा कर कलम थामी काम के संग... Read more
Recommended Posts
दर्द को हर्फ हर्फ लिखना छोड़ दिया
दर्द को हर्फ हर्फ लिखना छोड़ दिया माथे की सिलवटे पढ़ना छोड़ दिया बंद हो गई है हिचकिया आना अब उन्होंने जो याद करना छोड़... Read more
मुझे इतिहास लिखना है
चलते-चलते तेरे और मेरे हुनर में फर्क बहुत है ऐ मेरे दोस्त, तुझे इतिहास पढ़ना है और मुझे इतिहास लिखना है। कवि अभिषेक पाण्डेय
महिला दिवस पर विशेष कविता
___ मनभावन कुछ भी नहीं, जो मिला वही संजोया मैंने आंँसू अंतर्मन प छिड़के पर आंचल नहीं भिगोया मैंने जब नदिया बही बनी मैं धारा... Read more
मेरी माँ
♥ज़िन्दगी की तपती धूप में एक तनहा साया पाया है मैंने। जब खोली आँखें तो अपनी माँ को मुस्कुराता हुआ पाया मैंने। जब भी माँ... Read more