Skip to content

“ पगडंडी का बालक ”

DESH RAJ

DESH RAJ

कविता

February 18, 2017

गाँव की पगडंडी से गुजरते हुए एक बालक को हमने देखा,
नन्हें हाथों में बस्ता, उसकी आँखों में आशा की किरणें देखा I

उसके पेट में भूख व हाथ भी था खाली ,
मन बेचैन पर उसने संघर्षो से हार न मानी ,
“विधा” से भूख मिटाया, संयम की भरी थाली,
प्रण किया लक्ष्य प्राप्ति पर ही मनाऊंगा दिवाली I

गाँव की पगडंडी से गुजरते हुए एक बालक को देखा,
बालक ने माँ की ममता व बूढ़े पिता को कर्जो से दबे देखा I

राह में कांटे पर निकला व बिल्कुल अकेला ,
सबको पीछे छोड़ दिया जिनके साथ पढ़ा-खेला ,
“ज्ञान” हासिल कर बन गया वो सबसे अलबेला ,
“राज” खो न जाये कहीं, विशाल है जगत का मेला I

गाँव की पगडंडी से गुजरते हुए एक बालक को देखा,
राह के साथियों को आशा भरी नज़रों से निहारते देखा I

विश्वास है वह विजय पताका फयरायेगा ,
अपनों का दर्द उसे हमेशा ही याद आयेगा,
पगडंडी के हर एक राही को सीने से लगायेगा ,
“सूरज” बनकर दुनिया को रोशनी दिखायेगा I

गाँव की पगडंडी से गुजरते हुए एक बालक को देखा,
लक्ष्य प्राप्ति की तमन्ना व अपनों से उसका प्यार देखा I

“ माँ ” का बालक से एक अदभुत सवाल ,
क्या तूने परिश्रम किया अपने लिए लाल ?
नहीं i तुझे तोड़नी है “निरक्षरता की दीवाल”,
तभी हर गली-गाँव का बच्चा होगा खुशहाल I

उपरोक्त कविता मेरे देश के लाखों अभावग्रस्त बालकों को समर्पित है जो संघर्षों से हार न मानते हुए अपनी मंजिल प्राप्त करते है I

देशराज “राज”
कानपुर

Author
DESH RAJ
Recommended Posts
घर को अपने ही चिरागों से भी जलते देखा
हद से अपनी कभी रिश्तों को गुजरते देखा दौरे हाजिर में पुरानो को भी बदलते देखा ********************************* रौशनी को हम उम्मीदों मे जलाते हैं मगर... Read more
दर्द के भँवर से
दर्द के भँवर से खुदको गुज़रते नहीं देख़ा क्या समझे वो दर्द कभी पलते नहीं देखा चोट खाई इश्क़ में जो बन गया नासूर इस... Read more
कश्मीर की तस्वीर
एक दिन सपने में देखा अपना प्यारा कश्मीर, “स्वर्ग से सुंदर ” धरा की उजड़ी हुई तस्वीर I आदमी को आदमी का लहू पीते देखा... Read more
गरीबी
गरीबी गरीबी … गरीबी भी कितनी अजीब है शायद ये ही उनका नसीब है गरीबी भी दो किस्म की देखा किसी को मन का तो... Read more