Skip to content

न हो सकी

मधुसूदन गौतम

मधुसूदन गौतम

गज़ल/गीतिका

May 6, 2017

बेबहर गजल
*********************************

भले ही हमसे खिदमत नवाजिश न हो सकी।
पर कभी किसी खातिर साजिश न हो सकी। 0

नजर न आई दुनियां को हमारी शक्सियत।
महज इसलिए कि हमसे नुमाइश न हो सकी।1
*
लुट रही थी ढेर खुशियाँ मुफ्त बाज़ार में,
मिलती कैसे हमसे फरमाइश न हो सकी।2

कौन गया खाली तेरे दर से हे राधे ।
क्या हुआ ?पूरी हमारी ख्वाहिश न हो सकी।3

लड़ कर आपस में लुटाते रहे अमनो चैन।
फरिश्तो से भी सुलह समझाइश न हो सकी।4

खानदानी जमीं पर बनता था हक मेरा ।
पर तस्दीक हमारी पैदाइश न हो सकी।5

जोर लगाते रहे हम बाजुओ से जान से।
राजनीतीक जोर आजमाइश न हो सकी।6

महफिल आमादा थी पुरजोर सुनने को ।
किसी तीमारदार से गुज़ारिश न हो सकी।7

दफन तो कर ही देती ‘ मधु’ दुनियां कभी की।
बस दो गज जमीन की पैमाइश न हो सकी।8

****** मधु गौतम

Share this:
Author
मधुसूदन गौतम
मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर जाने की आदत है। वर्तमान में राजस्थान सरकार के आधीन संचालित विद्यालय में व्याख्याता पद पर कार्यरत हूँ।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you