न होंगे

न होंगे।
सजा कितनी भी महफिल और शामें
मगर महफिल की रौनक हम न होंगे।

बारबां याद आएगी, तुझको हमारी
ढूंढोगे लाख लेकिन, हम न होंगे।

मिलेंगे खूब ही तुम्हें सुनो, नायाब हीरे
फिज़ा में पाकिज़ा हम शबनम न होंगे।

इश्क़ में उलझने भी, बेल सी बढती रहेंगी
अगर हमदम नीलम,तिरे जो हम न होंगे।

मिलेंगे खूब ही दिल फेंक आशिक
मगर मुझसे सनम नीलम,न होंगे।
नीलम शर्मा✍️

Like Comment 0
Views 4

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing