.
Skip to content

न शरमाएँगे दुनिया से

सागर यादव 'जख्मी'

सागर यादव 'जख्मी'

मुक्तक

March 18, 2017

न शरमाएँगे दुनिया से सुबह को शाम कह देँगे

जो नफरत के पुजारी हैँ वो दिन को रात कह देँगे

किसी की लाश पर तुम फूल भी रखना तो चुपके से

नहीँ तो प्यार के दुश्मन उसे भी प्यार कह देँगे

Author
सागर यादव 'जख्मी'
नाम- सागर यादव 'जख्मी' जन्म- 15 अगस्त जन्म स्थान- नरायनपुर पिता का नाम-राम आसरे माता का नाम - ब्रह्मदेवी कार्यक्षेत्र- अध्यापन माँ सरस्वती इंग्लिश एकाडमी ,सरौली,जौनपुर ,उत्तर प्रदेश. प्रकाशन -अमर उजाला ,दैनिक जागरण ,रचनाकार,हिन्दी साहित्य ,स्वर्गविभा,प्रकृतिमेल ,पब्लिक इमोशन बिजनौर ,साहित्यपीडिया... Read more
Recommended Posts
कुछ कह न सका अथरों से तभी:: जिते द्रकमलआनंद( पोस्ट१०७)
Jitendra Anand गीत Oct 25, 2016
जब कुछ कह न सका अथरों से तभी लेखनी कर में आयी ।। कुछ ऐसा हो गया हमारा तुमसे -- यह सम्बन्ध प्यार का ,... Read more
!! हम आपको प्यार से सलाम करते हैं !!
नफरत के काबिल समझते हो तो नफरत करो गर प्यार के काबिल समझते हो प्यार करो हमने अपनी तो फितरत ही कुछ ऐसी बना रखी... Read more
??मुक्तक??  माँ का प्यार ही
??मुक्तक?? माँ का प्यार ही इस संसार का पहला प्यार है माँ से ही जुड़ी इस दुनिया के हर एक तार है कल्पना किसी चीज़... Read more
प्यार करें
कड़ी है धूप चलो छाँव तले प्यार करें जहाँ ठहर के वक़्त आँख मले प्यार करें नज़रिया बदलें तो दुनिया भी बदल जाएगी भूल के... Read more