.
Skip to content

न प्यार का अब समझते मतलब

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

गज़ल/गीतिका

May 26, 2016

न प्यार का अब समझते मतलब न भावनाओं को देखते हैं
तभी तो रिश्तों में आज इतनी पड़ी दरारों को देखते हैं

यूँ हार कर भी हमारे दिल में न जीत की आग बुझ
सकी है
दबे हुये है जो राख में हम उन्हीं शरारों को देखते हैं

बुरे समय में वो टूट कर के निराश होते न ज़िन्दगी से
जो पतझरों मे भी ढूंढ कर के यहाँ बहारों को देखते हैं

दिमाग से सोचते नहीं हैं चले ही जाते हैं पीछे पीछे
जहाँ में ये भेड़ चाल चलते यहाँ करोङों को देखते हैं

ये अर्चना ज़िन्दगी समन्दर न डूबते हैं न हम उबरते
कभी सिमटते कभी बिखरते यहाँ किनारों को देखते हैं

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद (उ प्र)

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
इश्क़ में हमारी बे-ज़ुबानी देखते जाओ
इश्क़ में हमारी बे-ज़ुबानी देखते जाओ उस पर आलम की तर्जुमानी देखते जाओ तुम ना आओगे कभी मुन्तज़िर हम फिर भी हैं लिल्लाह प्यार की... Read more
एक अजनबी हमसफर  बनने वाला हे !
कुछ पल का साथ अब हर पल का होने वाला हे ! देखते ही देखते एक अजनबी हमसफर बनने वाला हे ! छोडूगा न कभी... Read more
हम फ़ना हो गये....
ग़ज़ल हम फ़ना हो गयें देखते देखते। कट गई उम्र यूंही देखते देखते। हसरत तो थी सुधरे हालात। बद से बदतर हुए देखते देखते। दिल... Read more
एक खुद पसंद ग़ज़ल
एक खुद पसंद ग़ज़ल... काफ़िया "अर" का स्वर रदीफ़ देखते रहे बह्र 221 2121 1221 212 वो जिस पे' आएं'गे वो' डगर देखते रहे। सागर... Read more