.
Skip to content

” नज़रों को मेरी तूने , बाँध लिया है ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

February 27, 2017

टकटकी लगाए यों मैं ,
देखती रही !
लज़्ज़ा के आवरण ,
समेटती रही !
भीतर की हलचल को –
जान लिया है !!

हसरत भरी निगाहों ने ,
गज़ब ढा दिया !
डूब गई रंग केसरिया ,
ऐसा रंगा जिया !
फाग ने भी अलबेला –
स्वांग लिया है !!

बेध दिया यौवन ने ,
बैरागी मन !
सादगी में बसता है ,
सहज आकर्षण !
अधरों ने तेरे मेरा –
नाम लिया है !!

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
दिल जब रोता है...
दिल जब रोता है, तो खुद ही गुनगुना लिया करते हैं ! आंखों से निकलते हैं,जब अश्क के मोती, तो उन्हे खुद ही पुरो लिया... Read more
उनको अपना बना  के देख लिया
उनको अपना बना के देख लिया जख़्म दिल के दिखा के देख लिया फूल तो फूल थे मगर हमने शूलों से भी निभा के देख... Read more
कभी हार कर भी तुम्हे पा लिया..
कभी हार कर भी तुम्हे पा लिया, कभी जीत कर भी मुँह की खानी पड़ी कभी अनहद फासलों से भी तुम मुझे ताकती रही, कभी... Read more
सीख
Raj Vig कविता Sep 17, 2017
जंत्र मंत्र तंत्र सब करके देख लिया पंडित ज्ञानी ध्यानी सब पूछ के देख लिया । उनका कहना करना सब करके देख लिया लोगों के... Read more