.
Skip to content

#नज़राना

Surya Karan

Surya Karan

गज़ल/गीतिका

July 13, 2017

बेमतलब की ये ; सारी दुनियादारी है ।
तेरे एहसान मुझपे , जिन्दगी से भारी है ।

जिन्दगी की शामें तेरे आँचल में गुज़ारी है
नश्तर चुभोना उसमें ; क़यामत से भारी है ।

तू माँग ले ये ज़िस्म ,और ये जान तुम्हारी है
मंदिर में मेरे दिल के ; बस मूरत तुम्हारी है ।

मेरे ज़हनों-ज़िस्म में ; खुशबु तुम्हारी है ,
पास जो दिल के हो तो, ज़न्नत हमारी है ।

तेरे एहसान मुझपे , जिन्दगी से भारी है …….

Author
Surya Karan
Govt.Teacher, M.A. B.ed (eng.) Writer.
Recommended Posts
मुक्तक
मेरा जिस्म है मगर जान तुम्हारी है! तेरे बिना तन्हा जिन्दगी हमारी है! दर्द बरक़रार है तेरी जुदाई का, जाम की मदहोशी मेरी लाचारी है!... Read more
मुक्तक
जिस्म है मेरा मगर जिन्दगी तुम्हारी है! तेरे बगैर तन्हा हर खुशी हमारी है! सुलग रही है साँसों में आग चाहतों की, शामे-मयकशी भी मेरी... Read more
किया है ज़िन्दगी(?), एक नाम है ज़िन्दगी (!)
किया है ज़िन्दगी(?), एक नाम है ज़िन्दगी (!) कैसे जीए तेरे बगैर(?), तेरा नाम है ज़िन्दगी (!)
तेरे मेरे दरमियान (गज़ल)
तेरे मेरे दरमियान/मंदीपसाई तेरे मेरे दरमियान कुछ तो बाकि है, आँखो में अभी भी चाहत बाकि है। होता क्यों हर पल अहसास तुम्हारा, हवाओं में... Read more