.
Skip to content

न्यू ईयर

Dr ShivAditya Sharma

Dr ShivAditya Sharma

कविता

December 31, 2016

नई उमंग लेके आया नया साल, नई उम्मीदों से नाता जोड़ दो
रखो साथ यादें अच्छी, बुरी साल पुराने के साथ छोड़ दो।

लिखो परिभाषा कामयाबी की, रास्ते किस्मत के अपनी तरफ मोड़ दो
जगमगाओ जैसे सूरज शिखर पर, नाकामयाबी के सिलसिले तोड दो।

अरे, बहुत हुईं बाते पुरानी, खुलके पार्टी करो डीयर
मेरी तरफ से आप सभी को मुबारक हो एक जोशीला न्यू ईयर।

Author
Dr ShivAditya Sharma
Consultant Endodontist. Doctor by profession, Writer by choice. बाकी तो खुद भी अपने बारे में ज्यादा नहीं जानता, रोज़ जिन्दगी जैसी चोट करती है वैसा ही ढल जाता हूँ।
Recommended Posts
सभी को नव वर्ष मंगलमय हो..
फिर से गुजर जायेगा यह साल जिन्दगी का जिस तरह गुजर चूका है हर साल जिन्दगी का कल फिर से आ जायेगा नया साल जिन्दगी... Read more
~~नव वर्ष मंगलमय हो~~
फिर से गुजर जायेगा यह साल जिन्दगी का जिस तरह गुजर चुका है हर साल जिन्दगी का कल फिर से आ जायेगा नया साल जिन्दगी... Read more
नए साल पर हों तमन्नाएं पूरी,
नए साल पर हों तमन्नाएं पूरी सिमट जाये बढ़ते हुए दिल की दूरी नए जोश का तन में संचार हो सात्विक विचारों का संसार हो... Read more
नये साल की पहली सुबह
????? नये साल की पहली सुबह की सर्दी, और एक कप चाय की गरमा-गरम चुस्की। ठंढ से ठिठुरती, रजाई में सिकुरती। रिश्तों की आहट, कुछ... Read more