न्याय की देवी

????
बाँधआँखों पर काली पट्टी
अंधी बनी न्याय की देवी।

न्याय तराजू हाथ की मुट्ठी,
सबूत तौलती सच्ची-झूठी।

एक हाथ तलवार दोधारी,
फिर भी बेबस बनी बेचारी।

संविधान की ओट में खड़ी,
न्याय की देवी बिलख रही।

पुलिस-थाना,कोर्ट-कचहरी,
चप्पल धिसते लम्बी चक्की।

बिना सबूत छूटते मुलजिम,
फाँसी चढ़ जाती ईमानदारी।

भ्रष्ट नेता,पुलिस – कर्मचारी,
सबके मन में लालच बेमानी।

छूटते रिश्वत दे चोर-जुआरी,
घून सी लगी है ये बिमारी।

फैली भ्रष्टाचार, चोरबाजारी,
दैत्य,नक्सली-आतंकवादी।

नित स्थिति भयानक त्रासदी,
कैसे हो इस देश की उन्नति।

पट्टी उतार देखना हुई जरूरी,
शुरू हो न्याय की नई परिपाटी।
????—लक्ष्मी सिंह ??

Like Comment 0
Views 457

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing