न्याय की देवी

????
बाँधआँखों पर काली पट्टी
अंधी बनी न्याय की देवी।

न्याय तराजू हाथ की मुट्ठी,
सबूत तौलती सच्ची-झूठी।

एक हाथ तलवार दोधारी,
फिर भी बेबस बनी बेचारी।

संविधान की ओट में खड़ी,
न्याय की देवी बिलख रही।

पुलिस-थाना,कोर्ट-कचहरी,
चप्पल धिसते लम्बी चक्की।

बिना सबूत छूटते मुलजिम,
फाँसी चढ़ जाती ईमानदारी।

भ्रष्ट नेता,पुलिस – कर्मचारी,
सबके मन में लालच बेमानी।

छूटते रिश्वत दे चोर-जुआरी,
घून सी लगी है ये बिमारी।

फैली भ्रष्टाचार, चोरबाजारी,
दैत्य,नक्सली-आतंकवादी।

नित स्थिति भयानक त्रासदी,
कैसे हो इस देश की उन्नति।

पट्टी उतार देखना हुई जरूरी,
शुरू हो न्याय की नई परिपाटी।
????—लक्ष्मी सिंह ??

478 Views
लक्ष्मी सिंह
लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली
727 Posts · 254.8k Views
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is...
You may also like: