.
Skip to content

नोट बदल गये देश बदलेगा

विजय कुमार अग्रवाल

विजय कुमार अग्रवाल

कविता

November 18, 2016

सुबहा से उठकर लाइन में लग गये शाम को मेरा नम्बर आया ।
खुशी के मारे उछल पड़ा मैं नया नोट जब हाथ में पाया ॥
कैसी कैसी कठिनाई थी किसी को यह बतला नहीँ पाया ।
लाइन छोड़ कहीँ जा नहीँ पाया पूरे दिन कुछ खा नहीँ पाया ॥
मेरा मिशन था नोट बदलना लगा पहाड़ मैं चढ़ कर आया ।
वो निकला है देश बदलने अब जाकर मै समझ यह पाया ॥
कितना कठिन यह निर्णय होगा जिसका उसने बीड़ा उठाया ।
सारे दुश्मन मिल गये उसके टस से मस कोई कर नहीँ पाया ॥
बदल रहा है देश मेरा यह मेरी तो यह समझ में आया ।
तुम भी समझ जाओगे यदि जो तुमने उसका साथ निभाया ॥

विजय बिज़नोरी

Author
विजय कुमार अग्रवाल
मै पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बिजनौर शहर का निवासी हूँ ।अौर आजकल भारतीय खेल प्राधिकरण के पश्चिमी केन्द्र गांधीनगर में कार्यरत हूँ ।पढ़ना मेरा शौक है और अब लिखना एक प्रयास है ।
Recommended Posts
आपकी अदालत
सुप्रीम कोर्ट का जज कहता है ,देश में दंगा हो सकता है । लाइन लगी है लम्बी लम्बी , जनता का धैर्य खो सकता है... Read more
कैसे होगा भला देश का
कैसे होगा भला देश का मोदीजी ने यही बताया । नींद उड़ गई पडोसियो की काला धन सब बाहर आया ॥ राजनिती के इतिहास में... Read more
जब से बदल गया है नोट
एक रात समाचार है आया पाँच सौ हज़ार की बदली माया ५६ इंच का सीना बतलाकर जाने कितनो की मिटा दी छाया वो भी अंदर... Read more
बंद हो गये नोट
नोट बड़े सब बंद हो गये । हिंदुस्तानी दंग हो गये ॥ मोदी जी देखो दुनिया में । पहली आज पसंद हो गये ॥ आने... Read more