नोट-बंदी

हर तरह से हर गति अब आज मंदी हो गई ।
जब से मेरे देश में ये , नोट-बंदी हो गई ।

मिट्टी के भाव से बिकता है किसानों का अनाज ,
निर्धनों के घर में ज्यादा और तंगी हो गई ।

बैंक की लाइन में अब भी भीड़ केवल निर्धनों की,
घर बैठे ही बड़ों-बड़ों की नयी करेंसी हो गई ।

वेईमानी करने का मौका हमें पहले नहीं था ,
नोट-बंदी की कृपा से अपनी चाँदी हो गई ।

श्वेत ने काले को बिल्कुल दूधिया-सा कर दिया,
बैंक बालों की चुनरिया आज धानी हो गई ।

बैंक का यह सिलसिला बदस्तूर जारी है अब भी,
पतिव्रता कहते थे जिसको, आज रंडी हो गई ।

दम नहीं ‘ईश्वर’ यहाँ पर शेर की भी गर्जना में ,
अब व्यवस्था गीदड़ों की चाल- मंडी हो गई ।

ईश्वर दयाल गोस्वामी ।
कवि एवम् शिक्षक ।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 848

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share