23.7k Members 49.9k Posts

नोटबंदी की बरसी

नोटबंदी की बरसी

कौन कहता है नाकाम हुई
नोटबंदी इसने तो सफलता
के नये आयाम छू लिये

नोटबंदी ने जनता को
उसकी हद बतला दी थी
बूड़ा लाचार बीमार सबको
नानी याद करा दी थी

बैंक कभी जो ग्राहको के
आगे पीछे फिरते थे
ग्राहक अब उनके आगे
पीछे फिरता है

अच्छे दिन आये उनके
जिनको देने के लिए बैंको
के पास नही था पैसा अब
तो पैसा खूब है बैंक पैसा
देने ग्राहकों को घर जाते है

क्या हुआ यदि एन पी ए
बड़ता है कर्ज वसूली के
लिए जनता पर बैंक नये
तरीके अजमाते है

बूड़े अब चुस्त हो गये है
बचत कीमत कम होने से
बूड़े नौकरी करने जाते है

©पूरनभंडारी सहारनपुरी

मैं, (पूरन भंडारी ), स्वप्रमाणित करता हूँ कि प्रविष्टि में भेजी रचनाये नितांत मौलिक हैं, तथा मैं आपके इस काव्य रचना को प्रकाशित करने की अनुमति प्रदान करता हूँ, रचना के प्रकाशन से यदि कापीराईट का उल्लंघन होता है तो उसकी पूरी जिम्मेदारी मेरी होगी ।

पूरन भंडारी सहारनपुरी
Mb No. 8178799672
pc10bhandari@yahoo.co.in

Like 2 Comment 2
Views 4

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Puran Bhandari
Puran Bhandari
देहली
5 Posts · 159 Views
संछिप्त परिचय मेरा जन्म वर्ष १९५९ में उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में भंडारी परिवार में...