.
Skip to content

नोटबंदी-एक सिलसिला

अमरेश गौतम

अमरेश गौतम

शेर

December 22, 2016

कैसा विरोधाभास है ये,
खाने के लाले भी हैं,
और तरक्की की बात भी।

Author
अमरेश गौतम
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता
Recommended Posts
शेर
Pankaj Trivedi शेर Jan 20, 2017
बड़ा रंगीला खुशहाल जटिल तो बदनाम भी था आज न होकर वो खुद अंतिम संस्कार में भी था - पंकज त्रिवेदी
कोई तो राधिका हो
आदाब! फिर वृन्दावन भी होगा और साँवरा भी होगा है शर्त यह के याँ पर कोई तो राधिका हो -‘ग़ाफ़िल’
व्यथा
सूखे पत्तोँ की तरह बिखरा हुआ था मैँ, किसी ने समेटा भी तो केवल जलाने के लिए।
ख़ाब
अब तो ख़ाबों में भी नहीं आतें हैं वो । मैंने खुली नज़रो से कभी ख़्वाब नहीं देखा ।।