Skip to content

नोटबंदी-एक सिलसिला

अमरेश गौतम

अमरेश गौतम

शेर

December 22, 2016

कैसा विरोधाभास है ये,
खाने के लाले भी हैं,
और तरक्की की बात भी।

Share this:
Author
अमरेश गौतम
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता
Recommended for you