नोटबंदी-एक सिलसिला

जमा पूरी रकम को, कालाधन न कहो साहब,
गरीबों के एक-एक रुपये का,उसी में हिसाब है।
कालाधन तो अब,आप जैसों से निकले हैं,
जो कि हर हाल में, देशहित में खराब है।

“नोटबंदी – एक सिलसिला”

Like 1 Comment 0
Views 12

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share