कविता · Reading time: 1 minute

!!नेता!!

***********************
~~~~~!!नेता!!~~~~~
***********************
“मौसमी
बारिश में,
शब्दों के
शातिर पतंगे!

उड़ते हुए
गुनाह करते हैं।
द्युति, सूरज की
चुरा लेते हैं!!”______दुर्गेश वर्मा

64 Views
Like
9 Posts · 508 Views
You may also like:
Loading...