नूरी

” नूरी “

(लघुकथा)
———–
सुनसान रात के अंधेरे में दीवार के सहारे एक कोने में दुबकी बैठी “नूरी ” इंसानी वेश में छुपे हुए चार-पाँच भेड़ियों से बचने का प्रयास कर रही थी । तभी किसी बड़े ट्रक ने उसके चेहरे पर तीव्र रोशनी डाली । वह हड़बड़ाई और मुँह से अनायास ही चीख निकल गई । तभी !! उन इंसानी भेड़ियों का झुण्ड भूखे शैतानों की तरह उस पर टूट पड़ा । वह बहुत गिड़गिड़ाई , चीखी , चिल्लाई ,। लेकिन ! आज उसकी आवाज किसी भी इंसान ने नहीं सुनी । आखिर रात के सन्नाटे को चीरती उसकी दर्दनाक आह ! धीरे-धीरे खुद एक सन्नाटा बन गई । क्यों कि उसकी पुकार किसी वजूद को तलाश रही थी ,पर ! तलाश ना सकी । बस ! धीरे-धीरे उसकी आँखें हमेशा के लिए बंद हो गई और अस्तित्वविहीन हो गई नूरी !!

————————————
— डॉ०प्रदीप कुमार “दीप “

12 Views
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू,...
You may also like: