.
Skip to content

****नीरू के दोहे**** रस की अनुभूति***

Neeru Mohan

Neeru Mohan

दोहे

February 15, 2017

१.
****नीरू वाणी बाल की ,
****सुन मिठास भर जाए |
****ज्ञान की ज्योति चाहु ओर,
****बिन प्रयास बिखर जाए |

२.
नीरू सुनत अचंभित ,****
वाणी बाल की आज |****
कण-कण मिसरी घुल गई ,****
सुनी छंद मुख आज |****

३.
****नीरू दे आसीस है ,
****कोमल कपोल को आज |
****बड़े होवे नाम कमाए ,
****बढ़ाएँ गुरू का मान |

Author
Neeru Mohan
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more
Recommended Posts
"वाणी का महत्त्व" दोहे *************** मुख चंदा तन चाँदनी,रूप सजा इठलाय। कटु वाणी से वार कर,नारी गई लजाय।। धन दौलत का तोल नहिं,शब्द बढ़ावे मोल।... Read more
***खोजता स्वअस्तित्व अपना***
विषय- खोज/तलाश रेंगा काव्य शैली 5+7+5+7+7+5+7+5+7+7----- * माँ दरबार मनोकामना पूर्ण तलाश मेरी संपूर्ण फलीभूत इच्छाएँ हैं संतुष्ट * खोजता आज स्वअस्तित्व अपना रात्रि का... Read more
कुछ न कुछ बदला जाए
चलो आज से कुछ ना कुछ बदला जाए। माँ हर दम कुछ ना कुछ है करती रहती धरती अपनी धुर पर है चलती रहती ऐसे... Read more
सफ़र आसान हो जाए
गुमनाम राहो पर एक नयी पहचान हो जाए चलो कुछ दूर साथ तो, सफ़र आसान हो जाए|| होड़ मची है मिटाने को इंसानियत के निशान... Read more