Skip to content

नीति रा राजस्थानी दूहा

हनुमान प्रसाद

हनुमान प्रसाद "बिरकाळी"

दोहे

February 27, 2017

टैम-टैम री बात है,टैम करै मजबूर|
कुण नै भावै खूंसडा,चुगणा बोतल पूर|1|
तेरी मेरी राड मै, राम रट्यो ना बीर|
माटी री आ मूरती,माटी बण्यौ सरीर|2|

हनुमान प्रसाद “बिरकाळी”

Author
हनुमान प्रसाद
जै मायडभौम जै मायडभासा हिन्दुस्तान राजस्थानी
Recommended Posts
म्हारी मायड़ भाषा
✍? ✍? ✍? मिनख मिनख री प्यारी बोली, म्हारै मायङ राजस्थान री क्यु बिसराई इ संविधानां म, बोली मायङ राजस्थान री सुरमा सा रणवीर निपजावै,... Read more
कर्मचारी और सरकार
किसी सरकार बणी या म्हारै हरियाणे म्ह, कर्मचारियाँ नै रोकना चाहवै स थाणे म्ह। तानाशाही रवैया अपणाण लाग री स या, दुश्मन बणाण लाग री... Read more
ये री बिन्नी मेरो वलम बड़ो प्यारो री
ये री बिन्ना मेरे बलम बड़ो प्यारो, मेरे नयनो को तारो.................. ये री जीजी मेरे नयनो को ता रो.! री बिन्ना................................ कबहु न पलका को... Read more
हिंदुस्तान की माटी ये , खुद इतिहास बनाती है । हुए हजारों वीर यहां , ये उन की गाथा गाती है । मैं इस जग... Read more