निग़ाह

वक़्त ने वक़्त को समेटा था ।
नज्र पे नज्र का पहरा था ।
न थे राज निग़ाह में कोई ,
निग़ाह ने निग़ाह को घेरा था ।
…. विवेक दुबे”निश्चल”@…

Like Comment 0
Views 5

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing