23.7k Members 50k Posts

{निश्छल प्रकृति व छली मानव}

{निश्छल प्रकृति व छली मानव}
========================
“मै करती
मौन व्रत,
तू –
मिथ्या फलाहार!
मै
निराकार की उपासक,
तू अर्चक –
ब्रह्म साकार!
मै
मनन की सृजक,
तू –
मंथन का मूक दर्शक!
मैं रचती
नैसर्गिक भाषा,
तू –
आतंक की नव परिभाषा!
मुझसे हर्षित हों
भगवान्,
तुझपर हँसे –
हे कुटिल इंसान!!”______दुर्गेश वर्मा

12 Views
Durgesh Verma
Durgesh Verma
9 Posts · 146 Views
मैं काशी (उत्तर प्रदेश) का निवासी हूँ । काव्य/गद्य आदि विधाओं में लिखने का मात्र...
You may also like: