31.5k Members 51.8k Posts

निश्चल छन्द

निश्चल छन्द मात्रिक छन्द
16,7 की यति 23 मात्राएँ
द्वार तुम्हारे भक्त खड़ा माँ, लेकर आस।
कष्ट सभी अब दूर करो माँ, भरो प्रकाश।
दीप जलाकर करता तेरा, मैं गुणगान।
मुझे दीजिये मातु शारदे, उत्तम ज्ञान।

अदम्य

1 Like · 6 Views
अभिनव मिश्र अदम्य
अभिनव मिश्र अदम्य
शाहजहांपुर,(उत्तर प्रदेश)
178 Posts · 1.5k Views
मैं शाहजहांपुर, (उत्तर प्रदेश) से हूँ। वर्तमान में नोयडा के एक प्राइवेट सेक्टर, में कार्यरत...
You may also like: