.
Skip to content

निशाँ ढूंढते हैं…..

CM Sharma

CM Sharma

गज़ल/गीतिका

March 17, 2017

लोग मेरी ज़िन्दगी का निगेहबाँ ढूंढते हैं…
अफसानों में मेरे इश्क़ का जहॉं ढूंढते हैं…

दो पहर रात बाकी है सूली को अभी से….
गिरह लगाने को गर्दन पे निशाँ ढूंढते हैं….

मोहब्बत उसकी से ख़ौफ़ज़दा है सब इतने…
हर अफ़साने में उसीकी ही दास्ताँ ढूंढते हैं….

न सोचा सलीब पे लटकाने से पहले जिसको…
रहनुमाई को अब हर गली मकाँ ढूंढते है…

तिनका-२ तक फूंक डाला आशियाँ मेरे का…
राख के ढेर में अब ‘चन्दर’ के निशाँ ढूंढते हैं…..
\
/सी. एम्. शर्मा

Author
CM Sharma
उठे जो भाव अंतस में समझने की कोशिश करता हूँ... लिखता हूँ कही मन की पर औरों की भी सुनता हूँ.....
Recommended Posts
मूफ़लिसी में भी रहबरी ढूंढते हैं। बैवकुफ़ हैं वो जो जिंदगी ढूंढते हैं। रहबसर चाहते हैं सभी उजालों में। कुछ एेसे हैं जो तीरगी ढूंढते... Read more
ढूंढ़ते है*
*****/ढूंढते है/******* मावस में पूनम की, सहर में शबनम की, निशानी ढूंढते है। दर्पण में श्रंगार की, नजरों में प्यार की, रवानी ढूंढते है। रिश्तों... Read more
घराना ढूंढते है..................
घराना ढूंढते है कर सके गुफ्तगू हाल-ऐ-दिल ऐसा हमसफ़र याराना ढूंढते है !! सिर्फ बातो तक न हो जमीमा का ऐसी मुलाकातो का बहाना ढूंढते... Read more
मेरी जेब में..... (लघु कथा)
मेरी जेब में..... ********************************************* बचपन में शम्भू चाचा का बेटा दीपू , मेरा अजीज दोस्त था । एक दिन मैं दीपू को ढूंढते-ढूंढते उसके घर... Read more