31.5k Members 51.9k Posts

निर्मल प्रीत।

Apr 23, 2020 12:14 AM

ना बंधन कोई उम्र का,
ना रिवाज़ ना रीत है,
ना भय है खोने का,
ना है लालसा पाने की,
उदाहरण हैं रिश्तों के ऐसे भी,
जिनमें नि:स्वार्थ-निर्मल प्रीत है।

-अंबर श्रीवास्तव

2 Likes · 1 Comment · 55 Views
Amber Srivastava
Amber Srivastava
Bareilly,(UP)
95 Posts · 8.3k Views
लहजा कितना ही साफ हो लेकिन, बदलहज़ी न दिखने पाए, अल्फ़ाज़ों के दौर चलते रहें,...
You may also like: