गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है

गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही|
कहूंँ कैसे हिंद चोटी गगनचुंबी दिख रही |

देखकर दिल्ली न बोलो विश्व का हम मान हैं |
निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है|

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता
25-02-2017

Like Comment 0
Views 187

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing