निरर्थक

हूँ अपनों का चहेता मै निरर्थक सामान की तरह
फिर भी आ जाता हु सामने मजबूरियों की तरह
जब जरुरत समझी सजा लिया गुलदान की तरह
वरना पड़ा रहा किसी कोने में फूटे बर्तन की तरह

ड़ी. के. निवातियाँ……..@@@

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share