.
Skip to content

महक तुम्हारी हमें साँवरे ….

Rita Singh

Rita Singh

गीत

July 16, 2017

नित सुबह आती है , नित शाम आती है
याद तुम्हारी हमें साँवरे दिन रात आती है ।

हर सहर भाती है , हर पहर भाती है
महक तुम्हारी हमें साँवरे हर लहर भाती है ।

हर भवन आती है , हर नगर आती है
छवि तुम्हारी हमें साँवरे हर डगर आती है ।

हर पल सताती है , हर क्षण सताती है
स्मित तुम्हारी हमें साँवरे हर पग सताती हैं ।

हर सुख जगाती है , हर दुख समाती है
डग तुम्हारी हमें साँवरे हर पथ दिखाती हैं ।

डॉ रीता

Author
Rita Singh
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047 आत्मकथ्य - इस भौतिकवादी युग में मानवीय मूल्यों को सनातन... Read more
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
चूड़ियाँ......
चूड़ियाँ मुझको तब लुभाती हैं, जब अनायास ही बज जाती हैं| एक संगीत की सी स्वर लहरी, बस मेरे मन में उतर जाती है| मुझको... Read more
ग़ज़ल (क्यों हर कोई परेशां है)
ग़ज़ल (क्यों हर कोई परेशां है) दिल के पास है लेकिन निगाहों से जो ओझल है ख्बाबों में अक्सर वह हमारे पास आती है अपनों... Read more
जीने की वजह…………..
तुम्हारी नजरो में जो तस्वीर उभर कर आती है उस तस्वीर में मुझे सूरत अपनी नजर आती है यदा कदा जब जब भी आते हो... Read more