23.7k Members 49.9k Posts

महक तुम्हारी हमें साँवरे ....

Jul 16, 2017

नित सुबह आती है , नित शाम आती है
याद तुम्हारी हमें साँवरे दिन रात आती है ।

हर सहर भाती है , हर पहर भाती है
महक तुम्हारी हमें साँवरे हर लहर भाती है ।

हर भवन आती है , हर नगर आती है
छवि तुम्हारी हमें साँवरे हर डगर आती है ।

हर पल सताती है , हर क्षण सताती है
स्मित तुम्हारी हमें साँवरे हर पग सताती हैं ।

हर सुख जगाती है , हर दुख समाती है
डग तुम्हारी हमें साँवरे हर पथ दिखाती हैं ।

डॉ रीता

54 Views
Rita Singh
Rita Singh
94 Posts · 13.7k Views
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय...