.
Skip to content

*** निजभाषा सम्मान ***

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

मुक्तक

September 14, 2017

एक उम्मीद है जगाई निजभाषा सम्मान

हिंदी हिन्द की पहचान है मान- सम्मान

आज बने एक से अनेक मंच निजभाषा

कहो अहो एक सब हिंदी – हिन्द समान ।।

?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
टूट रहा है हिन्द हमारा
सुनो समय की करुण पुकार ले डूबेगा यह अंधकार पुनः न हो जाए माँ दासी जागो मेरे भारतवासी आओ मिलकर दें सहारा, टूट रहा है... Read more
मोदी जी
अमेरिका की संसद के श्रेष्ठतम सम्बोधन के लिए मेरे देश की शान आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र दामोदर मोदी जी के सम्मान में आप सभी गुणीजनों... Read more
बेटी का है सम्मान
कविता बेटी का है सम्मान - बीजेन्द्र जैमिनी बेटी पढा़ओ- शिक्षा है वरदान मानव जाति का है कल्याण बेटी का है सम्मान बेटी बचाओ -... Read more
[[  नफरते  अब  मिटा  मान  सम्मान  कर ]]
नफरते अब मिटा मान सम्मान कर अब किसी का यहाँ तूँ न अपमान कर प्यार होता नही है किसी शर्त पर अपनी शर्तों को कुछ... Read more