Skip to content

निगाहें जब निगाहों से तुम्हारी बात करती हैं

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

गज़ल/गीतिका

July 22, 2016

निगाहें जब निगाहों से तुम्हारी बात करती हैं
ख़ुशी के मोतियों की तब बहुत बरसात करती हैं

भले खामोश रहकर तुम करो कोशिश छुपाने की
निगाहें पर तुम्हारे सब बयाँ हालात करती हैं

तुम्हारे सामने ये धड़कनें बढ़ती ही जाती क्यूँ
हमें लगता मुहब्बत की ये तहकीकात करती हैं

नज़र अन्दाज़ करते हो हमें जब देखकर भी तुम
वो नज़रें नर्म नाजुक दिल पे तब आघात करती हैं

हमेशा ही निभाती हैं ये आँखें साथ इस दिल का
सुनाने गम ख़ुशी आँसू को वो तैनात करती हैं

लगे अच्छा नहीं कुछ भी सुना हमने जुदाई में
अँधेरे दिल में होते हैं ये रातें बात करती हैं

नहीं आसान जीना है यहाँ पर ‘अर्चना’ देखो
ग़मों की बारिशें हरदम तुषारापात करती हैं

डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
महसूस
तुम क्या जानो मेरे दिल को तुम्हारी कौन सी बात चूभ गई है, बेखबर सी रहती हो फुर्सत नहीं है किस कदर परेशान हूँ तुम्हारी... Read more
खुरदरी सतह
बचपन में फर्श की वो खुरदरी सतह जब फिसलना रोक दे जाया करती थी। हमारी नाक उसपल सिकुड़ जाया करती थी। मुहँ बिगड़ जाता था... Read more
ग़ज़ल :-- जुलमी तेरी निगाहें ख़ंज़र .....!!
ग़ज़ल :-- जुल्मी तेरी निगाहें !! गजलकार :-- अनुज तिवारी "इन्दवार " महफिल की भीड़ मे मेरा शिकार करती ! जुल्मी तेरी निगाहें खंजर सी... Read more
रक्षाबंधन
बहना हर राखी पर हमको याद तुम्हारी आती है। बचपन की वो सारी बातें आ आ हमें सताती हैं।। कैसे तुम मम्मी से मेरी सभी... Read more