.
Skip to content

*माँ बाप का निःस्वार्थ प्यार *

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

July 8, 2017

हम चाहे जितने बड़े हो जाएं ,
बचपन कभी नहीं भूलते ।
भले ही भूल जाएं हर बात मगर ,
माँ की बाँहों का झूला कभी नही भूलते ।।

यूँ तो बचपन में सब कुछ खास होता है ,
हर एक अहसास दिल के पास होता है ।
मगर जो याद दिल से कभी नहीं मिटती ,
वो केवल माँ बाप का निःस्वार्थ प्यार होता है ।।

समय के साथ हमारी भावनाएं बदल जाती हैं ,
जीवन जीने की वजह बदल जाती हैं ।
माँ बाप का प्यार तो हमेशा वही रहता है ,
मगर हमारी प्राथमिकताएं बदल जाती हैं ।।

माँ बाप का प्यार कभी कम नहीं होता ,
बस प्यार का तरीका बदल जाता है ।
मत छोड़ना अकेला बुढ़ापे में माँ बाप को ,
वरना औलाद से विश्वास उठ जाता है ।।

जैसा करेंगे माँ बाप संग फल मिल ही जाएगा ,
ये समय का चक्र है कोई नहीं बच पाएगा ।
समय रहते सम्भल जाएं यही अच्छा होगा ,
वरना इतिहास हमारे साथ भी दोहराया जाएगा ।।

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
माँ (मदर्स डे पर)
???? आम आदमी या ईश्वर अवतार, माँ के दूध का सब कर्जदार। माँ के छाती से निकला दूध, जीवनदायिनी अमृत की बूँद। ? माँ जीवन... Read more
बेटियाँ
बेटियाँ बेटियाँ, बचपन से ही अपने माता पिता की 'माँ' बन जातीं हैं, नन्ही हथेली से सहलाती हैं पिता का दुखता माथा, छिंतीं हैं माँ... Read more
ओ माँ, ऐ माँ, ....................|गीत| “मनोज कुमार”
ओ माँ, ऐ माँ, मेरी माँ, ओ माँ मेरी किस्मत का खजाना तू ही तू ही माँ इन आँखों की खुशियाँ रहमत तू ही माँ... Read more
हर कदम पर माँ बाप का सहारा बन जाती हे ! हर घर आगन को रोशन का जाती हे जहाँ में वो लाडली “बिटिया“ कहलाती... Read more