गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

ना मै हिन्दू हूँ ना ही मुसलमान/मंदीप

ना मै हिन्दु हूँ ना ही मुस्लमान ,
जब मै आया था तो सिर्फ एक इंसान।

करते क्यों हो तुम आपस में अपनों पर इतना जुल्म,
ये देख कर घबरा जाता है अपना भगवान।।

करते हो तुम आपस में मजहब की बातें,
करते तुम ऐसा हो जाता बदनाम भगवान।।

एक दिन तुमारा भी आएगा मेरा भी,
फिर क्यों तुम बन जाते हो हवान ।।

खुद को अगर लो तुम सवार,
तभी तो बनोगे तुम अच्छे इंसान।।

भाई है हम आपस मे रहेगे मिलजुल कर,
रहो प्यार से यही है मंदीप् का फरमान।।

मंदीपसाई

69 Views
Like
78 Posts · 5.3k Views
You may also like:
Loading...