.
Skip to content

** ना देख मन के भेद **

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कविता

March 20, 2017

ना देख मन के भेद
ना मन में कोई खेद
?????
रंग मिलते हैं होली में
मन मिलते हैं होली में
मन खिलते हैं होली में
तन खिलते हैं होली में
?????
उमंग मन की देख
तरंग तन की देख
?????
रंग खिलते हैं होली में
तन खिलते हैं होली में
भड़ास मन की रेख
सड़ास तन की देख
होली के इस रंग में
बोली के इस ढंग में
?????
तन गीला हो जाता है
मन गीला हो जाता है
? ? ?
ना शिकवा
ना शिकायत
मन जिसका
हो जाता है
???
खट्टेमीठे सुस्वादु
??
मन व्यंजन
खा पाता है
दिल किसका
हो जाता है
कब किसको
पा जाता है
सब कहते है
होली है
कब कोई
किसकी
होली
ये होली है
जी होली
प्यार की मीठी बोली
फिर बोलो जी होली ।।
?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में... Read more
Recommended Posts
।।सिर्फ़ काली लड़कियां ।। - निर्देश निधि “सिर्फ काली लड़कियां” मेरी प्यारी बहन अन्नी आज तुझे हमसे बिछड़े हुए पूरे अट्ठाईस बरस हो गए, अगर... Read more
दोस्ती पर लिखी आन्दित कर देने वाली चंद पंक्तियाँ
आज की कविता लीजिये आनन्द एक सन्त ने कहा जब दो आत्माएं एक दूसरे के लिए होती है सती तो ही होती है दोस्ती ।... Read more
कल्पना
ऐ कवि-शायर! कहाँ तुम छिप कर बैठे हो. ज़रा बाहर निकल कर देख तेरी कल्पना है क्या. कहाँ निर्भीक वह यौवन, जिसे तुम शोख कहते... Read more
राष्ट्रीय ध्वज.. मन की बात...!!
मैं आपका राष्ट्रीय ध्वज हूँ.. आज आप मेरे भी मन की बात सुनिए. लगता है आप लोग मुझे भूल गए हैं. साल में सिर्फ १५... Read more